गोभा के विद्यार्थियों की भविष्य खराब कर रहा बिजली विभाग

विद्युत विभाग अधिकारियों की बड़ी लापरवाही सूचना के बाद भी विद्युतीय तकनीकी दुरुस्त कराने को तैयार नहीं बिजली नहीं होने से सैकड़ों विद्यार्थियों की भविष्य खराब ,मौका जांच

सिंगरौली/गोभा मिली जानकारी के अनुसार सिंगरौली जिले के ग्राम पंचायत क्षेत्र गोभा के टोला बघवनवां में 11 केवी विद्युतीय खंभा बीते कल 2 दिनों से टूट कर जमीन पर बिखरा पड़ा हुआ है। खंभा टूट जाने से कई मोहल्ले में बिजली बाधित है। जिससे पूरे गांव में अंधेरे से सन्नाटा पसरा हुआ है।

चितरवई कला : बिजली विभाग द्वारा GP चितरवई कला के आम जनता का मौलिक अधिकारों का हनन - प्रशासन गूंगा बहरा

रिपोर्ट समीम बेग



विद्युत विभाग के पास पोल (खंभे) ही नही 

इस घटना की जानकारी जब स्थानीय लोगों ने विभागीय अधिकारियों को दी तो उन्होंने साफ मना कर दिया मेरे पास एक भी विद्युतीय ख़भा उपलब्ध नहीं है इसके वजह से मैं आप लोगों की समस्या को दूर नहीं कर सकता। इसकी जानकारी जब संवाददाता समीम बेग को लगी तो उन्होंने अपने ही गांव के किसी मोहल्ले से एक विद्युतीय खंबे का व्यवस्था करवाया दिया गया। जब खंभे का व्यवस्था हो गया तो पुनः ग्रामीणों ने विभागीय अधिकारियों को सूचना दी कि खंभे का व्यवस्था हो गया है। विभागीय लाइन मेंनो को भेजकर तकनीकी समस्या को दूर कर लाइन चालू किया जाए।

ग्रामीण खुद कार्य करने को तैयार

ग्रामीणों ने इतना भी कहा कि आप सिर्फ लाइनमैन और गाड़ी भेज दे हम सभी ग्रामीण खंभा खड़ा करवाने में मदद करेंगे। इसके बाद भी सिंगरौली जिले के विभागीय अधिकारी मरम्मत कराने को तैयार नहीं। अधिकारियों की तानाशाही से पूरे गांव में आक्रोश व्याप्त है। इतना ही नहीं ग्रामीणों ने विभागीय अधिकारियों पर कई संगीन आरोप भी लगाए। लापरवाह अधिकारियों के कारण पूरे गांव की 10 एव 12 वी की बोर्ड पेपर भी हो चल रहा है बचो का पढ़ाई नही हो पारा है बच्चो बच्चियों की ऑनलाइन पढ़ाई पर बुरा असर पड़ रहा है। वहीं बिजली नहीं होने से पूरे मोहल्ले वासियों की मोबाइल चार्ज नहीं हो पा रही जिससे ऑनलाइन पढ़ाई करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने अपनी इस दुखद समस्या को दिखाते हुए जिले के (DM) राजीव रंजन मीणा से गुहार लगाई है। लापरवाह विभागीय अधिकारियों की जांच कराते हुए जल्द बिजली दिलवाने में मदद करें ताकि बच्चों की भविष्य खराब ना हो यही सभी ग्रामीणों ने मांग की है।